बाइबल स्कूल बैंकाकस्वागत

“यीशु मसीह मुसलमानों के लिए संस्था” बैंकॉक, थाईलैंड में बाइबल स्कूल शुरू करने जा रहा है

“यीशु मसीह मुसलमानों के लिए संस्था” बैंकॉक, थाईलैंड में बाइबल स्कूल शुरू करने जा रहा है 

इस्लाम धर्म को छोड़ कर मसीहियत को अपनाना एक मुसलमान के लिए न कभी आसान था और न ही कभी होगा। ऐसे मुसलमानों के लिए हिंसा का डर और सामाजिक और कानूनी प्रतिबन्ध प्रमुख चुनौतियां होती हैं। इस्लामी देशों में समाज, अधिकारी और परिवार ऐसे मुसलामानों को बिरादरी से बाहर कर देते हैं, उन्हें सताते हैं और यहाँ तक कि उन्हें मार भी देते हैं सिर्फ इस कारण कि उन्होंने यीशु को अपने उद्धारकर्ता के रूप में स्वीकार किया। इस्लामी देशों में रह रहे ज़्यादातर मुसलमान जो यीशु को अपना प्रभु मानते हैं गुप्त रूप से ईसाई धर्म का पालन करने पर मजबूर होते हैं। जो लोग आर्थिक रूप से सक्षम होते हैं वे अपने जीवन को बचाने के लिए दूसरे देशों को पलायन कर जाते हैं। इस्लामी शरीयत कानून के तहत एक मुसलमान के लिए अपने धर्म को त्यागने या छोड़ने का नतीजा मौत होती है।

कई ऐसे पूर्व मुसलमान थाईलैंड में निर्वासन में रह रहे हैं। हमारे संगठन “यीशु मसीह मुसलामानों के लिये” ने ऐसे पूर्व मुसलामानों की सहायता करने के लिए थाईलैंड की राजधानी बैंकाक में एक बाइबल स्कूल खोलने का निर्णय लिया है ताकि हम उनको यीशु मसीह के सन्देश और उसकी शिक्षा का और अधिक ज्ञान उपलब्ध करा सकें जबकि उन्होंने यीशु के लिए अपने जीवन को खतरे में डाला और यीशु के प्रेम के लिए अपने घर, परिवार, दोस्तों और देश को भी छोड़ा। केवल रविवार को गिरजाघर में उपस्तिथि दर्ज करना पर्याप्त नहीं है। उन्हें गहराई से परमेश्वर को जानने की जरूरत है। यही कारण है कि हमारे शिक्षित अधयापक जो एक पास्टर भी हैं उन्होंने इन नये मसीहियों के लिए विशेष रूप से एक पाठ्यक्रम तैयार किया है ताकि यह लोग मसीहियत को और अच्छी तरह जान सकें और दूसरों के साथ भी यीशु के सुसमाचार को साझा कर सकें।

जे. सी. एम. बाइबल स्कूल केवल उन पूर्व मुसलमानों को ही शिक्षा उपलब्ध नहीं करायेगा जिन्होंने अभी अभी यीशु को अपने जीवन में स्वीकार किया है बल्कि हमारा स्कूल उन मुसलमानों को भी पूर्ण सहायता प्रदान करेगा जो यीशु की ओर आकर्षित हैं और सच को जानने के लिए उत्सुक हैं। अध्ययन कार्यक्रम के भाग के तौर पर सभी शिष्यों को बाइबल, मसीहियत के बारे में अलग अलग किताबें, CD’s और DVD’s उनकी अपनी भाषा में उपलब्ध कराई जाएंगी ताकि वह बिना किसी कठिनाई के अपनी मात्रभाषा में यीशु के सुसमाचार को पढ़ और समझ सकें।

जे. सी. एम. बाइबल स्कूल को बनाने और उसे चलाने में सक्षम होने के लिए हमें आपके उदार उपहारों और सहायता की आवश्यकता है। आप हमें अपनी मदद हमारी वेबसाइट पर पेपॉल के लिंक के माध्यम से भेज सकते हैं। अधिक जानकारी के लिये कृपया हम से संपर्क करने में संकोच न कीजियेगा।

आपकी सहायता हमें मनुष्यों के मछुआरों को मुस्लिम दुनिया के उन लोगों तक भेजने में सक्षम बनाएगी जो यीशु को नहीं जानते हैं या जानते हुए भी किसी कारणवश उसको अपनाने से डरते हैं। उन्हें यीशु की ज़रूरत है और यीशु से उद्धार पाने पर उनका भी अधिकार है। इसलिए अपने दिलों को परमेश्वर के इस कार्य के लिए खोलिये और हमारी सहायता कीजिये। परमेश्वर आप सब का भला करे। यीशु मसीह की जय।


ShareShare on FacebookTweet about this on TwitterShare on Google+Email this to someone
Previous post

पाकिस्तान में मसीही समुदाय - अधिकार, सम्मान और गरिमा के लिए लड़ाई

Next post

"यीशु मसीह मुसलमानों के लिए संस्था" का थाईलैंड में बाइबल स्कूल स्थापित

No Comment

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit is exhausted. Please reload CAPTCHA.