पूर्व मुसलमानों की गवाहीवीडियोस्वागत

कैसे मैंने यीशु मसीह को अपनाया – एक मुस्लिम लड़की का दिल को छू जाने वाला अनुभव

एक मुसलमान के लिए इस्लाम से ईसाई धर्म तक का सफ़र कभी भी आसान नहीं होता है ख़ास तौर पर जब जीवन में यह परिवर्तन एक इस्लामी देश में आये जहाँ परिवार और समाज के हाथों उत्पीड़न और मौत का साफ़ साफ़ डर हो। लेकिन फिर भी बहुत से लोग यीशु मसीह के प्यार के लिए यह जोखिम लेने और अपनी ज़िन्दगी को दाँव पर लगाने से भी पीछे नहीं हटते। अनीला यीशु के उन चंद शिष्यों में से एक है जो अपनी आस्था के लिए सब कुछ त्याग देते हैं। लेकिन अनीला को गर्व है यीशु को अपने उद्धारकर्ता के रूप में चुनने के फ़ैसले पर। हालांकि अनीला को अपनी मातृभूमि से भागना पड़ा, उसने अपना परिवार, दोस्त और संपत्ति आदि को खो दिया, लेकिन उसने एक झूठे और पाप से भरे पाखंडी मुस्लिम जीवन को जीने के बजाये यीशु को प्यार करने और उसके सामने आत्मसमर्पण करने को तरजीह दी।

मसीह को स्वीकार करने के परिणाम में अनीला को अपमान, भेदभाव, बहिष्कार, शारीरिक और मानसिक यातना का सामना करना पड़ा, लेकिन उसने वह सब सहन किया इस आशा के साथ कि उसका उद्धारकर्ता उसकी रक्षा करेगा और वास्तव में वैसा ही हुआ। यीशु ने न सिर्फ अनीला को पाकिस्तान के इस्लामी समाज के क्रूर लोगों के अत्याचार से बचाया बल्कि उसे पाकिस्तान से बाहर भी निकाला। आज अनीला थाईलैण्ड में सुरक्षित है जहाँ वह निर्वासन में शरणार्थी के रूप में रहती है। यीशु परमेश्वर अपने फ़रिश्तों के माध्यम से विदेश में भी अनीला की ज़रूरतों को पूरा कर रहा है। हम प्रार्थना करते हैं कि अनीला सदैव यीशु के संरक्षण में सुरक्षित रहे और उसकी दिल को छू जाने वाली गवाही के माध्यम से हज़ारों लाखों भटके हुए मुसलमान यीशु को अपने उद्धारकर्ता के रूप में अपनायें। आमीन।

Previous post

Message of the day : The Good News - the Just Forgiveness of Sin

Next post

Message of the day: The Good News – Our Creator is our Saviour

No Comment

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.