jcm-logo

हमारे शत्रुओं के लिए प्रार्थना

हमारे शत्रुओं के लिए प्रार्थना - Hindi Prayers for Lord Jesus Christ

शान्ति के राजकुमार, यीशु, आपने हमें कहा है कि हम अपने शत्रुओं के साथ प्रेम करें और उनके लिए प्रार्थना करें जो हमें सताते हैं। हम अपने शत्रुओं और उनके लिए जो हमारा विरोध करते हैं प्रार्थना करते हैं। पवित्र आत्मा की सहायता से, हमारी यह प्रार्थना है कि सभी लोग इकट्ठे होकर न्याय की ओर चलना सीखें जो सत्य और स्थाई शान्ति को ले आता है। आपको ही सारी महिमा और सम्मान सदैव और सदैव के लिए मिले। आमेन।

हमारे शत्रुओं को क्षमा करना क्यों महत्वपूर्ण है?

अक्षमा आपके और परमेश्‍वर के मध्य में खड़ी होती है। क्यों? क्योंकि हम सभी पापी हैं और परमेश्‍वर की कृपा के माध्यम से हमें क्षमा किया गया है और वह हमें धर्मी के रूप में देखता है। यदि परमेश्‍वर हमें हमारे सारे भयानक कार्यों से जिसे हमने किया है क्षमा कर सकता है, तो हम भी दूसरों को क्षमा कर सकते हैं।

क्षमा आपके लिए भली है। यदि आप क्षमा न करने को अपने मन में स्थान देते रहेंगे तो आप कड़वाहट से भर जाएंगे और दूसरों के बारे में बुरा ही सोचेंगे, पाप करेंगे और शत्रु को अपने जीवन में प्रवेश करने के लिए दरवाज़े को खोल देंगे और विनाश का कारण ठहरेंगे।

क्षमा मूल रूप से आपके लाभ के लिए है, न कि उस व्यक्ति के लिए जिसे आप क्षमा कर रहे हैं। जब तक आप एक पीड़ित के रूप में महसूस कर रहे हैं, आप एक बहुत ही भारी बोझ को उठा कर चल रहे हैं। क्षमा करने से आप अपने बोझ को नीचे उतार कर रख सकते हैं। और बड़े आराम से आगे की ओर स्वतंत्र होकर चल सकते हैं।

क्षमा न करने का चुनाव हमें हमारे अतीत के साथ बाँधते हुए, हमें आगे बढ़ने से रोके रखता है। क्षमा के बिना आप निरन्तर अपने अतीत के साथ रूके रहते हैं। बहुत से लोग अपने जीवनों के कई वर्षों को कड़वाहट और रोष में ही व्यतीत कर देते हैं, जबकि वे क्षमा के द्वारा जीवन यापन करते हुए अपने समय को आनन्द के साथ जी सकते थे।

क्षमा हमें आगे बढ़ने में सहायता करती है। कई बार जब आपको लगता है कि किसी के द्वारा आपको नुकसान पहुँचा है उसे आपने अपने जीवन में क्षमा कर दिया है तो आप अचानक से पाते हैं कि आपके पास नकारात्मक और व्यर्थ आत्म-केन्द्रित शिकायतों की अपेक्षा अधिक अच्छे फलदायी जीवन और उपयोगिता से भरे हुए प्रसन्न रहने वाले विचारों के प्रति सोचने के लिए अधिक समय है। आमेन।